Connect with us

Crime News

Loan apps probe goes global

Published

on

After the home minister ordered a speedy probe into the instant loan racket, the Maharashtra police’s cyber cell is considering approaching the Interpol through the CBI.

Khushi Shah – Mumbai Uncensored, 2nd June 2022

Police recently learnt that loan sharks are pulling the strings from Nepal and the money extorted from the victims is routed to China.

The ministry of home affairs said ‘’On cross-border sharing of the information of the foreign-based companies, the officer said. All the countries in the world have signed a mutual legal assistance treaty (MLAT) to seek cross-border cooperation. To procure crucial data in the criminal matter, the Central Bureau of Investigation (CBI) can make requests to foreign countries from where companies are offering cloud platforms to these lending apps.”

The lenders, through their recovery agents, have harassed multiple borrowers, and driven some of them to commit suicide.The Enforcement directorate is already probing a money laundering case against rogue loan app companies run by Chinese like Linkyun Technology Private Limited and Dokypay Technology Private Ltd. 

Companies have offered cloud platforms to the fraud loan apps and are also giving cloud storage for hosting them. Since these companies are overseas gathering data is difficult. This is why they decided to approach INTERPOL who can use its administrative capabilities for procuring the details of such companies, like the owner’s name, e-mail IDs, the person who did the registration, etc. At the same time Interpol does not have executive powers, so Interpol official do not arrest suspects or act without the approval of national authorities.

More than 1,800 online complaints related to the loan scam, and have been piling up since the lockdown. Hyderabad also received over 100 loan app fraud cases on the past month and revealed international hawala transactions and other illegal activities.1,268 crore and another Rs 120 crore outward foreign remittances. Around 1. 4 crore transactions worth Rs 21,000 crore over payment gateways and bank accounts have been linked to such cases.

Crime News

Filmmaker Leena Manimekalai Slammed For Goddess Kali Shown Smoking In Documentary Poster, Netizens Demand Her Arrest

Published

on

Under the hashtag #arrestleenamanimekalai, a poster for a documentary movie has gone viral on the internet. Indian director Leena Manimekalai’s documentary’s poster has come under fire for “insulting” the Hindu goddess Kali. The posters which have spread outrage among the netizens, depicted the Hindu goddess Maa Kaali holding an LGBTQIA flag and smoking a cigarette on the poster. 

Siddhant Mohite, Founder of Saffron Think Tank said “How dare such people insult Hindu goddesses Maa Kaali by making such films? I demand strict action against each and every person who has been a part of this film which has been produced to create unrest amongst the Hindu Community. We demand legal action against them under section 295 A for deliberate and malicious acts, intended to outrage religious feelings of any class by insulting its religion or religious beliefs.”

More than 2 Lakh 30 thousand people have tweeted demanding action under the hashtag #ArrestLeenaManimekalai on Twitter this morning.

A twitter handle named SakshiP wrote “This is blasphemy and hurts Hindu religious sentiment. Aga Khan Museum needs to take this down immediately. 

A user tweeted, “I am shocked to see this post ! From M F Hussain to u, deriving vicarious pleasure in denigrating hindu gods and goddesses has been our motto. Please pull this down as it is offensive, disgusting and affects the sensibilities of all hindus. This is psychologically traumatic too.”

Another twitter user urged the Home Minister Amit Shah and PMO India to take appropriate action.

Continue Reading

Crime News

उदयपुर के दर्जी कन्हैयालाल साहू की गला रेतकर बेरहमी से की गई हत्या

Published

on

Nazneen Yakub – Mumbai Uncensored, 29th June 2022

राजस्थान के उदयपुर में मंगलवार दोपहर को दिल दहलाने वाली घटना घटित हुई है। इस घटना को पूर्व बीजेपी नेता नूपुर शर्मा के पैंगबर मोहम्मद टिप्पणी मामले का बदला बताया गया है। 

बीते मंगलवार 29 जून को दोपहर 2 से 3 बजे के करीब दो व्यक्ति मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद उदयपुर के दर्जी कन्हैयालाल साहू की दुकान पहुंचते है। वहां कपड़े सिलवाने के बहाने से  उनकी दुकान अन्दर घुसते है, जिसके बाद वह कन्हैयालाल को जबरजस्ती दुकान से बाहर लाकर तलवार से उनका गला रेतकर  हत्या को अंजाम देते हैं। 

दर्जी कजन्हैयालाल साहू की दिनदहाड़े हत्या करने के बाद दोनों आरोपियों ने अपना जुर्म स्वीकार करते हुए एक वीडियो शेयर किया था। इस वीडियो में उन्होंने कहा ”पैग़ंबर के अपमान करने वालों को यही सज़ा मिलेगी।”  इसके साथ ही उन्होंने वीडियो में पीएम नरेंद्र मोदी को भी जान से मारने की धमकी दी थी।    

दरअसल कन्हैयालाल के बेटे ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर आपत्तिजनक पोस्ट शेयर की थी। इसी फेसबुक पोस्ट के कारण उन पर हमला किया गया है। 

दोनों आरोपियों को राजस्थान पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।अतिरिक्त महानिदेशक जंगा श्रीनिवास, दिनेश एमएन, डीआईजी आरपी गोयल और राजीव पचार समेत करीब 30 आर पी एस अधिकारी, पांच आरएसी की कंपनी उदयपुर में तैनात की गई हैं। फिलहाल मामले की जांच जारी है।  

बता दें कि कन्हैयालाल की हत्या के बाद राजस्थान में विरोध प्रदर्शन चल रहा हैं। इस घटना को लेकर हिन्दू संगठन में रोष देखने को मिला। इसके साथ ही मामले को लेकर सोशल मीडिया पर काफी सारी प्रतिक्रियाएं भी देखी जा रही हैं।

Continue Reading

Crime News

चीनी कंपनी से जुड़े 400 CA और CS पर होगी कार्यवाई

Published

on

Nazneen Yakub – Mumbai Uncensored, 20th June 2022

केंद्र सरकार ने 400 चार्टर्ड अकाउंटेंट (CA)और कंपनी संचिवों (CS)पर अनुसशासनात्मक जांच की जाएगी। सीए और सीएस के ऊपर आरोप है कि वह चीनी कंपनियों के साथ शामिल है, उन्होंने कथित तौर पर मानदंडों की धज्जियां उड़ाई हैं।
दरअसल साल 2020 में गलवान की घटना के बाद चीनी व्यापारिक संस्थाओं के खिलाफ सरकार ने संदिग्ध कदम उठाए थे। जिससे संबंधित जांचों के आदेश जारी किए गए है।

सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी अखबार से बताया है कि जिन चार्टर्ड अकाउंटेंट और कंपनी सचिवों के खिलाफ अनुशासना्त्मक कार्रवाई शुरू की गई है, उन्होंने बड़ी संख्या में चीन के स्वामित्व वाली या चीनियों की ओर से बड़े शहरों में चलाई जाने वाली शेल कंपनियों को नियमों और कानून के पर्याप्त अनुपालन के बिना इनकॉर्पोरेट करने में मदद की थी। कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय ने पिछले दो महीनों से वित्तीय खुफिया यूनिट से प्राप्त सूचनाओं के आधार पर कार्रवाई की सिफारिश की है।

चार्टर्ड अकाउंटेंट मामलों को देखने वाली वैधानिक संस्था इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) ने अखबार को दिए एक बयान में कहा है, ‘आईसीएआई का अनुशासनात्मक निदेशालय सीए प्रोफेशनलों के खिलाफ देश भर के विभिन्न रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज से शिकायतें प्राप्त कर रहा है, जो कि चीनी नागरिकों से जुड़ी कंपनियों के साथ उनके कथित रूप से ताल्लुकातों को लेकर है।’ हालांकि, आईसीएआई ने फिलहाल उनके कथित दोष को लेकर जांच पूरी होने से पहले किसी तरह की टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है।

पिछले दो वर्षों में सरकार के सख्त कदमों के चलते चाइनीज कंपनियों से आने वाला प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) एकदम गिर गया है, लेकिन पिछले साल दोनों के बीच द्विपक्षीय व्यापार रिकॉर्ड 125 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया है। डिपार्टमेंट फॉर प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्री एंड इंटर्नल ट्रेड के आंकड़ों के मुताबिक 2020 में अप्रैल से जून (साल 2000 से लेकर) के बीच चीन से एफडीआई 15,422 करोड़ रुपए था, लेकिन 2022 की पहली तिमाही में यह गिरकर 12,622 करोड़ रुपये तक आ चुका है।

Continue Reading

Trending