Connect with us

Crime News

Bishop Franco Acquitted In Nun Rape Case

Published

on

Anushka Pathak, Mumbai Uncensored, 14th January 2022 :

The Additional District and Sessions court in Kottayam on Friday (January 14), acquitted Bishop Franco Mulakkal in the sensational case pertaining to the rape of a catholic nun.

“Daivathinu Sthuthi (Praise the Lord!)” Mulakkal told reporters, before leaving the court premises. He broke down in court and embraced his lawyers when the verdict was announced.

Franco Mulakkal, 57, was the first Catholic Bishop in India to go on trial for rape on the complaint of a catholic nun. After a trial of more than 100 days, the additional sessions court announced a single line verdict saying it had found him not guilty of the charges.

In June 2018, a nun from the Missionaries of Jesus congregation under the Jalandhar diocese had accused Bishop Franco of repeatedly raping her between 2014 and 2016 while he was the head of the Missionaries of Jesus order. 

Denying the rape allegations, the Bishop claimed that the story was ‘fabricated’ and was in retaliation for taking action against her with regard to a complaint raised by a woman.

The allegations were followed by street protests by several nuns, who demanded action by the church, police and the Kerala government. The Bishop was then arrested in September, the same year. He was in jail for 25 days after the court remanded him.

The chargesheet against the Bishop, which consisted of 2,000 pages in three volumes, was submitted in April 2019. The trial in the case commenced in November 2019 and concluded on January 10., 2022. Of the 83 witnesses listed by the prosecution, 39 were examined during the trial.

The Investigating Officer S Harisankar, former Kottayam SP, said to the reporters, “This is an extremely unfortunate verdict, it is shocking for us. We had expected a conviction fully. We will appeal. We had a lot of corroborative evidence. All the witnesses in the case were ordinary people.”

Crime News

Filmmaker Leena Manimekalai Slammed For Goddess Kali Shown Smoking In Documentary Poster, Netizens Demand Her Arrest

Published

on

Under the hashtag #arrestleenamanimekalai, a poster for a documentary movie has gone viral on the internet. Indian director Leena Manimekalai’s documentary’s poster has come under fire for “insulting” the Hindu goddess Kali. The posters which have spread outrage among the netizens, depicted the Hindu goddess Maa Kaali holding an LGBTQIA flag and smoking a cigarette on the poster. 

Siddhant Mohite, Founder of Saffron Think Tank said “How dare such people insult Hindu goddesses Maa Kaali by making such films? I demand strict action against each and every person who has been a part of this film which has been produced to create unrest amongst the Hindu Community. We demand legal action against them under section 295 A for deliberate and malicious acts, intended to outrage religious feelings of any class by insulting its religion or religious beliefs.”

More than 2 Lakh 30 thousand people have tweeted demanding action under the hashtag #ArrestLeenaManimekalai on Twitter this morning.

A twitter handle named SakshiP wrote “This is blasphemy and hurts Hindu religious sentiment. Aga Khan Museum needs to take this down immediately. 

A user tweeted, “I am shocked to see this post ! From M F Hussain to u, deriving vicarious pleasure in denigrating hindu gods and goddesses has been our motto. Please pull this down as it is offensive, disgusting and affects the sensibilities of all hindus. This is psychologically traumatic too.”

Another twitter user urged the Home Minister Amit Shah and PMO India to take appropriate action.

Continue Reading

Crime News

उदयपुर के दर्जी कन्हैयालाल साहू की गला रेतकर बेरहमी से की गई हत्या

Published

on

Nazneen Yakub – Mumbai Uncensored, 29th June 2022

राजस्थान के उदयपुर में मंगलवार दोपहर को दिल दहलाने वाली घटना घटित हुई है। इस घटना को पूर्व बीजेपी नेता नूपुर शर्मा के पैंगबर मोहम्मद टिप्पणी मामले का बदला बताया गया है। 

बीते मंगलवार 29 जून को दोपहर 2 से 3 बजे के करीब दो व्यक्ति मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद उदयपुर के दर्जी कन्हैयालाल साहू की दुकान पहुंचते है। वहां कपड़े सिलवाने के बहाने से  उनकी दुकान अन्दर घुसते है, जिसके बाद वह कन्हैयालाल को जबरजस्ती दुकान से बाहर लाकर तलवार से उनका गला रेतकर  हत्या को अंजाम देते हैं। 

दर्जी कजन्हैयालाल साहू की दिनदहाड़े हत्या करने के बाद दोनों आरोपियों ने अपना जुर्म स्वीकार करते हुए एक वीडियो शेयर किया था। इस वीडियो में उन्होंने कहा ”पैग़ंबर के अपमान करने वालों को यही सज़ा मिलेगी।”  इसके साथ ही उन्होंने वीडियो में पीएम नरेंद्र मोदी को भी जान से मारने की धमकी दी थी।    

दरअसल कन्हैयालाल के बेटे ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर आपत्तिजनक पोस्ट शेयर की थी। इसी फेसबुक पोस्ट के कारण उन पर हमला किया गया है। 

दोनों आरोपियों को राजस्थान पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।अतिरिक्त महानिदेशक जंगा श्रीनिवास, दिनेश एमएन, डीआईजी आरपी गोयल और राजीव पचार समेत करीब 30 आर पी एस अधिकारी, पांच आरएसी की कंपनी उदयपुर में तैनात की गई हैं। फिलहाल मामले की जांच जारी है।  

बता दें कि कन्हैयालाल की हत्या के बाद राजस्थान में विरोध प्रदर्शन चल रहा हैं। इस घटना को लेकर हिन्दू संगठन में रोष देखने को मिला। इसके साथ ही मामले को लेकर सोशल मीडिया पर काफी सारी प्रतिक्रियाएं भी देखी जा रही हैं।

Continue Reading

Crime News

चीनी कंपनी से जुड़े 400 CA और CS पर होगी कार्यवाई

Published

on

Nazneen Yakub – Mumbai Uncensored, 20th June 2022

केंद्र सरकार ने 400 चार्टर्ड अकाउंटेंट (CA)और कंपनी संचिवों (CS)पर अनुसशासनात्मक जांच की जाएगी। सीए और सीएस के ऊपर आरोप है कि वह चीनी कंपनियों के साथ शामिल है, उन्होंने कथित तौर पर मानदंडों की धज्जियां उड़ाई हैं।
दरअसल साल 2020 में गलवान की घटना के बाद चीनी व्यापारिक संस्थाओं के खिलाफ सरकार ने संदिग्ध कदम उठाए थे। जिससे संबंधित जांचों के आदेश जारी किए गए है।

सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी अखबार से बताया है कि जिन चार्टर्ड अकाउंटेंट और कंपनी सचिवों के खिलाफ अनुशासना्त्मक कार्रवाई शुरू की गई है, उन्होंने बड़ी संख्या में चीन के स्वामित्व वाली या चीनियों की ओर से बड़े शहरों में चलाई जाने वाली शेल कंपनियों को नियमों और कानून के पर्याप्त अनुपालन के बिना इनकॉर्पोरेट करने में मदद की थी। कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय ने पिछले दो महीनों से वित्तीय खुफिया यूनिट से प्राप्त सूचनाओं के आधार पर कार्रवाई की सिफारिश की है।

चार्टर्ड अकाउंटेंट मामलों को देखने वाली वैधानिक संस्था इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) ने अखबार को दिए एक बयान में कहा है, ‘आईसीएआई का अनुशासनात्मक निदेशालय सीए प्रोफेशनलों के खिलाफ देश भर के विभिन्न रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज से शिकायतें प्राप्त कर रहा है, जो कि चीनी नागरिकों से जुड़ी कंपनियों के साथ उनके कथित रूप से ताल्लुकातों को लेकर है।’ हालांकि, आईसीएआई ने फिलहाल उनके कथित दोष को लेकर जांच पूरी होने से पहले किसी तरह की टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है।

पिछले दो वर्षों में सरकार के सख्त कदमों के चलते चाइनीज कंपनियों से आने वाला प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) एकदम गिर गया है, लेकिन पिछले साल दोनों के बीच द्विपक्षीय व्यापार रिकॉर्ड 125 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया है। डिपार्टमेंट फॉर प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्री एंड इंटर्नल ट्रेड के आंकड़ों के मुताबिक 2020 में अप्रैल से जून (साल 2000 से लेकर) के बीच चीन से एफडीआई 15,422 करोड़ रुपए था, लेकिन 2022 की पहली तिमाही में यह गिरकर 12,622 करोड़ रुपये तक आ चुका है।

Continue Reading

Trending